SSC CGL Exam Pattern and Syllabus in Hindi

SSC CGL परीक्षा पैटर्न क्या है ? (What is SSC CGL Exam Pattern?)

एसएससी सी जी एल (SSC CGL) का परीक्षा पैटर्न का मतलब है कि इसमें किस विषय (Syllabus) मे कितने प्रश्न आते है और उनको कितने समय मे हल (Solve) करना होता है नेगटिव मार्किंग (Negative marking) होती है या नहीं अगर होती है तो इसका क्या नियम है | हमारे पाठको ने हमसे पूछा है की एसएससी सीजीएल के लिए स्नातक (Graduation) मे कितने प्रतिशत अंक (Marks) होने चाहिए और हम आपको बताने चाहते है कि एसएससी सीजीएल ने अपने अधिसूचना (Notification) मे यही लिखा है कि अभ्यर्थी का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय (University) से स्नातक होना चाहिए |
एसएससी सीजीएल परीक्षा को चार भागो मे निम्नलिखित अनुसार वर्गीकृत किया गया है :-

SSC CGL (Tier - 1, Tier - 2, Tier - 3, Tier - 4 )


एसएससी सीजीएल टियर I परीक्षा पैटर्न हिंदी में (SSC CGL Tier I Exam pattern 2018 in Hindi)

SSC CGL टियर-I  परीक्षा एक ऑब्जेक्टिव टाइप परीक्षा है जो ऑनलाइन मोड में आयोजित की जाएगी है। परीक्षा में 100 प्रश्नों के चार अनुभाग होंगे (प्रत्येक अनुभाग में प्रश्नों के संख्या 25 व अधिकतम अंक 50 होंगे.) और कुल अधिकतम अंक 200 होंगे. टीयर -1 परीक्षा की समय अवधि 60 मिनट होगी।
परीक्षा का अनुभागीय स्तर का विवरण नीचे दी गई सारणी में दिखाया गया है-SSC CGL Tier 1 Exam Pattern

याद रखने योग्य बिंदु:
SSC CGL टीयर 1 परीक्षा में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.5 अंक का नकारात्मक अंकन होगा जिसके तहत गलत प्रश्नों के लिए कुल नकारात्मक अंकों की कटौती उम्मीदवार के कुल प्राप्तांकों से होगी.
नेत्रहीन और सेरेब्रल पाल्सी से पीड़ित उम्मीदवारों के लिए परीक्षा की कुल अवधि 80 मिनट की होगी।

SSC CGL Tier - I परीक्षा का विषय-वार विस्तृत पाठ्यक्रम :-

उपर्युक्त पाठ्यक्रम SSC CGL  टीयर - I परीक्षा का एक संक्षिप्त रूप था। छात्रों को सभी वर्गों के विस्तृत पाठ्यक्रम को गंभीरता से देखकर ही अध्ययन योजना को बनाना चाहिए है जिससे आपको आपके कमज़ोर  विषयों को पहचाननें में और उन पर फोकस करने में सहायता मिलेगी।
SSC CGL Tier 1 Syllabus
आइये- SSC CGL TIER-1 के वर्गों के विस्तृत पाठ्यक्रम पर एक-एक करके नजर डालते हैं:
जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग : 
इस अनुभाग में उम्मीदवारों की सोचने की क्षमता और समस्या को सुलझाने के कौशल का परीक्षण किया जाता है। इस अनुभाग से पूछे गए सवाल मुख्य रूप से ब्रेन-टीज़र होते हैं और कभी कभी इन प्रश्नों का जवाब देना काफी मुश्किल हो जाता है। प्रश्न निम्नलिखित अध्यायों में से मौखिक और गैर-मौखिक दोनों ही प्रकार हो सकता है-
SSC CGL Tier 1 Reasoning Syllabus

सामान्य जागरूकता:
इस अनुभाग को SSC CGL परीक्षा के उच्च स्कोरिंग अनुभागों में से एक माना जाता है। यह उम्मीदवार की उसके चारों ओर के पर्यावरण के बारे में सामान्य जागरूकता और समाज में उनके अनुप्रयोगों की एबिलिटी का परिक्षण करता है. दुनिया भर में और भारत में हो रहे मौजूदा मामलों से भी प्रश्नों को इस खंड में पूछा जाएगा। सामान्य जागरूकता अनुभाग के तहत SSC CGL टियर-1 परीक्षा में निम्नलिखित विषयों को शामिल किया गया हैं-
इतिहास: 
हड़प्पा सभ्यता, वैदिक संस्कृति से सम्बंधित तथ्य; शासको के नाम जिन्होंने महत्वपूर्ण प्राचीन मंदिर और संस्थानों का निर्माण किया जैसे कि नालंदा.  मध्यकालीन भारत और उनके महत्वपूर्ण प्रणालियों का कालक्रम; भारत का स्वतंत्रता आंदोलन और उससे सम्बंधित नेता।
भूगोल:भारत और उसके पड़ोसी देश, प्रसिद्ध समुद्री बंदरगाह, हवाई अड्डे और उनके स्थान; दुनिया और भारत की महत्वपूर्ण संस्था और उनके स्थापित स्थानों के नाम जैसेकि ब्रिक्स, विश्व बैंक, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और भारतीय रिजर्व बैंक आदि.
अर्थव्यवस्था:
बजट की शब्दावली (राष्ट्रीय आय, सकल घरेलू उत्पाद, राजकोषीय घाटा व् अन्य); पंचवर्षीय योजना और इसके महत्व; अर्थव्यवस्था में प्रसिद्ध व्यक्तियों, संस्थान और उनके महत्व जैसेकि भारतीय रिजर्व बैंक, सेबी आदि.
जीवविज्ञान:
महत्वपूर्ण आविष्कार और उनके आविष्कारक; मानव शरीर के अंगों के बारे में महत्वपूर्ण और रोचक तथ्य; जानवरों और पौधों में पोषण; रोग और उनके कारण जैसेकि बैक्टीरिया; वायरस और प्रोटोजोआ; कक्षा 12 वीं की पर्यावरण के लिए एनसीईआरटी की पुस्तक के अंतिम चार अध्याय।
राजनीति:
सुप्रीम कोर्ट, राष्ट्रपति का चुनाव और उनके कार्यों; महत्वपूर्ण संवैधानिक निकाय जैसे सी०ए०जी०, संसद के बारे में तथ्य, मौलिक कर्तव्य, राज्यपाल और उनके कार्य, राज्य विधायिका; संवैधानिक संशोधन और उनके महत्व; आधिकारिक भाषा, आपातकालीन प्रावधान, राष्ट्रीय राजनीतिक दल और उनके प्रतीक.
रसायन विज्ञान: 
योगिकों के रासायनिक गुण और उनके उपयोग, महत्वपूर्ण पदार्थों जैसेकि प्लास्टर ऑफ़ पेरिस के रासायनिक नाम .; रासायनिक और भौतिक परिवर्तन; गैसों के गुण; सतह रसायन विज्ञान; रोजमर्रा की जिंदगी में रसायन विज्ञान।
भौतिक विज्ञान:
महत्वपूर्ण आविष्कार और उनके आविष्कारक, एस०आई० यूनिट, गति, ध्वनि, रोशनी, तरंग, ऊर्जा, बिजली।
कंप्यूटर:
कंप्यूटर का विकास, इनपुट और आउटपुट डिवाइस, मेमोरी।
अन्य:जनगणना, महत्वपूर्ण पुस्तकों और उनके लेखक, भारत के लिए सबसे पहली खेल उपलब्धि और पहला ओलंपिक, पहले एशियाई खेल आदि,  राज्य पशु और चिह्न, पुरस्कार और उनके महत्व, वैज्ञानिको का नाम जिन्हें महत्वपूर्ण खोजों के लिए नोबल पुरस्कार मिला है।
क्वांटिटेटिव एपटीत्युड:
इस अनुभाग में उम्मीदवारों के गणितीय कौशल का परीक्षण किया जाता है और यह देखा जाता है कि वह गणना करने में कितना सक्षम है। इस खंड में प्रवीण होने के लिए, उम्मीदवारों को सामान्य गणितीय अवधारणाओं, मेथड्स और उनके अनुप्रयोगों पर अच्छी पकड़ बनाने की आवश्यकता हैं। सवालों को उम्मीदवार की संख्यात्मक अनुप्रयोग व गणित में संख्या से सम्बंधित अनुभवों को जांचने पर आधारित करके डिज़ाइन किया गया है। 

SSC CGL टियर-1 परीक्षा के क्वांटिटेटिव एपटीत्युड अनुभाग में सम्मिलित  विषयों का विवरण कुछ इस प्रकार से है-
SSC CGL Tier 1 Quantitative Aptitude Syllabus
इस खंड में एक अच्छा स्कोर प्राप्त करने के लिए सभी सूत्रों के गहन ज्ञान और सवालों के पैटर्न की जानकारी होना आवश्यक है। इसलिए, इस खंड का कठोर अभ्यास ज़रूरी है। यह अनुभाग SSC CGL 2018 परीक्षा के प्रथम स्तर और द्वितीय स्तर दोनों में महत्वपूर्ण है।
इंग्लिश लैंग्वेज व कॉम्प्रिहेंशन: 
इस अनुभाग में उम्मीदवारों की सही व्याकरण के उपयोग, शब्दावली के उपयोग और बुनियादी कॉम्प्रिहेंशन को समझने की क्षमता का परीक्षण किया जाता है।

SSC CGL टियर-1 परीक्षा के इंग्लिश लैंग्वेज और कॉम्प्रिहेंशन अनुभाग में शामिल विषयों की सूची निम्न है-
  1. Synonyms
  2. Antonyms
  3. One Word Substitution
  4. Sentence Completion
  5. Spotting Errors
  6. Sentence improvement
  7. Idioms & Phrases
  8. Spelling Test
  9. Reading comprehension
आम तौर पर, इस खंड से पूछे जाने वाले प्रश्न डायरेक्ट और काफी आसान होते है। इसलिए, उम्मीदवार इस खंड में अच्छा स्कोर कर सकते हैं। यह अनुभाग SSC CGL 2018 परीक्षाके दोनों स्तरों टियर-1 व टियर-2 में महत्वपूर्ण है.

एसएससी सीजीएल टियर II परीक्षा पैटर्न  हिंदी में (SSC CGL Tier 2 Exam pattern in hindi)

SSC CGL टीयर – II परीक्षा एक ओब्जेक्टिव टाइप परीक्षा है जो ऑनलाइन आयोजित की जाएगी। परीक्षा में चार पेपर्स हैं जिनमें क्वांटिटेटिव एपटीत्युड, इंग्लिश लैंग्वेज व कॉम्प्रिहेंशन, सांख्यिकी और सामान्य अध्ययन (वित्त और अर्थशास्त्र) सम्मिलित है. प्रत्येक पेपर के लिए समय अवधि 2 घंटे की होगी।

परीक्षा का सेक्शन-आधारित विवरण नीचे दी गई सारणी में देखा जा सकता है-


SSC CGL Tier 2 Exam Pattern


याद रखने योग्य बिंदु:


  • पेपर-I और पेपर-II सभी पोस्ट के लिए अनिवार्य हैं।
  • पेपर-III केवल उन्हीं उम्मीदवारों के लिए हैं जो जूनियर सांख्यिकीय अधिकारी (JSO) के पद के लिए आवेदन करते है और जिन्होंने टियर-1 की परीक्षा को उत्तीर्ण किया है.
  • पेपर-IV केवल उन्हीं उम्मीदवारों के लिए है जो सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी / सहायक लेखा अधिकारी के पदों के लिए  आवेदन करते है और जिन्होंने टियर-1 की परीक्षा को उत्तीर्ण किया है.
  • पेपर- II (इंग्लिश लैंग्वेज व कॉम्प्रिहेंशन) में प्रत्येक गलत जवाब के लिए 0.25 अंक का नकारात्मक अंकन और पेपर-I, पेपर III और पेपर-IV में प्रत्येक गलत जवाब के लिए 0.50 का नकारात्मक अंकन होगा।
  • पेपर-I में प्रश्न मैट्रिक स्तर के, पेपर-II में प्रश्न 10 + 2  स्तर के और पेपर III व पेपर-IV में प्रश्न स्नातक स्तर के होंगे।
  • नेत्रहीन उम्मीदवारों के लिए परीक्षा की अवधि 2 घंटे और 40 मिनट हैं.

SSC CGL टीयर - II परीक्षा का विषय-वार विस्तृत पाठ्यक्रम (SSC CGL Tier 2 Syllabus in hindi)

उपर्युक्त पाठ्यक्रम SSC CGL टीयर – II परीक्षा का सिर्फ एक संक्षिप्त रूप था। छात्रों को सभी पेपर्स के विस्तृत पाठ्यक्रम के माध्यम से जाना चाहिए और संबंधित विषयों में अच्छी तरह से स्कोर करने के लिए एक उचित नीति का निर्माण करना चाहिए।
SSC CGL Tier 2 Syllabus

आइये- SSC CGL टियर-II के पेपर्स के विस्तृत पाठ्यक्रम को एक-एक करके देखते हैं-

पेपर-I: क्वांटिटेटिव एपटीत्युड
इस पेपर का पाठ्यक्रम  पहले बताये गए SSC CGL टीयर -1 परीक्षा के क्वांटिटेटिव एपटीत्युड के सिलेबस के ही अनुरूप है।

SSC CGL टियर-2 परीक्षा में पेपर-1: क्वांटिटेटिव एबीलीटीज़ के प्रमुख टॉपिक्स नीचे बताये गए हैं-

SSC CGL Tier 2 Paper 1 Quantitative Aptitude Syllabus

पेपर - 2: इंग्लिश लैंग्वेज एंड कॉम्प्रिहेंशन
इस फेज में प्रश्नों को उम्मीदवार की इंग्लिश लैंग्वेज एंड कॉम्प्रिहेंशन के ज्ञान का परीक्षण करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

SSC CGL टियर-2 परीक्षा में पेपर-2: इंग्लिश लैंग्वेज एंड कॉम्प्रिहेंशन के प्रमुख टॉपिक्स नीचे बताये गए हैं-
  1. Spotting the errors
  2. Fill in the blanks
  3. Synonyms
  4. Antonyms
  5. Spelling/detecting miss-spelt words
  6. Idioms & phrases
  7. One word substitution
  8. Improvement of sentences
  9. Active/passive voice of verbs
  10. Conversion into direct/indirect narration
  11. Shuffling of sentence parts
  12. Shuffling of sentences in a passage
  13. Close passage
  14. Comprehension passage
पेपर-3: सांख्यिकी (जूनियर सांख्यिकीय अधिकारी के लिए)

पेपर-III केवल उन्हीं उम्मीदवारों के लिए है जिन्होंने जूनियर सांख्यिकीय अधिकारी (JSO) के पद के लिए आवेदन किया है और जो इस पद के लिए टियर-1 से शोर्टलिस्ट हुए है.

SS CGL Tier 2 Paper 3 Statistics Syllabus


SSC CGL टियर-2 परीक्षा में पेपर-3: सांख्यिकी के प्रमुख टॉपिक्स नीचे बताये गए हैं-

  1. Collection Classification and Presentation of Statistical Data: Primary and Secondary data, Methods of data collection; Tabulation of data; Graphs and charts; Frequency distributions; Diagrammatic presentation of frequency distributions.
  2. Measures of Central Tendency: Common measures of central tendency – mean median and mode; Partition values- quartiles, deciles, percentiles.
  3. Measures of Dispersion: Common measures dispersion – range, quartile deviations, mean deviation and standard deviation; Measures of relative dispersion.
  4. Moments, Skewness and Kurtosis: Different types of moments and their relationship; the meaning of skewness and kurtosis; different measures of skewness and kurtosis.
  5. Correlation and Regression: Scatter diagram; simple correlation coefficient; simple regression lines; Spearman‘s rank correlation; Measures of association of attributes; Multiple regression; Multiple and partial correlations (For three variables only).
  6. Probability Theory: Meaning of probability; Different definitions of probability; Conditional probability; Compound probability; Independent events; Bayes‘ theorem.
  7. Random Variable and Probability Distributions: Random variable; Probability functions; Expectation and Variance of a random variable; Higher moments of a random variable; Binomial, Poisson, Normal and Exponential distributions; Joint distribution of two random variables (discrete).
  8. Sampling Theory: Concept of population and sample; Parameter and statistic, Sampling and non-sampling errors; Probability and non-probability sampling techniques (simple random sampling, stratified sampling, multistage sampling, multiphase sampling, cluster sampling, systematic sampling, purposive sampling, convenience sampling and quota sampling); Sampling distribution (statement only); and Sample size decisions.
  9. Statistical Inference: Point estimation and interval estimation, Properties of a good estimator, Methods of estimation (Moments method, Maximum likelihood method, Least squares method), Testing of hypothesis, Basic concept of testing, Small sample and large sample tests, Tests based on Z, t, Chi-square and F statistic, Confidence intervals.
  10. Analysis of Variance: Analysis of one-way classified data and two-way classified data.
  11. Time Series Analysis: Components of time series, Determinations of trend component by different methods, Measurement of seasonal variation by different methods.
  12. Index Numbers: Meaning of Index Numbers, Problems in the construction of index numbers, Types of index number, Different formulae, Base shifting and splicing of index numbers, Cost of living Index Numbers, Uses of Index Numbers.
पेपर-IV: जनरल स्टडीज-वित्त और अर्थशास्त्र (सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी / सहायक लेखा अधिकारी)

पेपर-IV केवल उन्हीं उम्मीदवारों के लिए जिन्होंने पेपर-IV के लिए टियर-I को उत्तीर्ण किया हैं व यह पेपर केवल सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी / सहायक लेखा अधिकारी के लिए ही आयोजित किया जाता है।

SSC CGL Tier 2 Paper 4 Finance Syllabus

आइये- पेपर-I: सामान्य अध्ययन (वित्त और अर्थशास्त्र)के पाठ्यक्रम के बारे में विस्तार से जानें -

भाग ए: वित्त एवं लेखा (Finance & Accounts)- (80 अंक):


Fundamental principles and basic concept of Accounting:

    Financial Accounting: Nature and scope, Limitations of Financial Accounting, Basic concepts and Conventions, Generally Accepted Accounting Principles.
भाग बी: अर्थशास्त्र और गवर्नेंस (Economics and Governance) - (120 अंक)

  1. Comptroller & Auditor General of India - Constitutional provisions, Role and responsibility
  2. Finance Commission - Role and functions
  3. Basic Concept of Economics and introduction to Micro Economics - Definition, scope and nature of Economics, Methods of economic study and Central problems of an economy and Production possibilities curve
  4. Theory of Demand and Supply - Meaning and determinants of demand, Law of demand and Elasticity of demand, Price, income and cross elasticity; Theory of consumer’s behaviour - Marshallian approach and Indifference curve approach, Meaning and determinants of supply, Law of supply and Elasticity of Supply.
  5. Theory of Production and cost - Meaning and Factors of production; Laws of production- Law of variable proportions and Laws of returns to scale.
  6. Forms of Market and price determination in different markets - Various forms of markets - Perfect Competition, Monopoly, Monopolistic Competition and Oligopoly ad Price determination in these markets
  7. Indian Economy –
  • Nature of the Indian Economy Role of different sectors - Role of Agriculture, Industry and Services-their problems and growth;
  • National Income of India - Concepts of national income, Different methods of measuring national income
  • Population - Its size, rate of growth and its implication on economic growth
  • Poverty and unemployment - Absolute and relative poverty, types, causes and incidence of unemployment
  • Infrastructure - Energy, Transportation, Communication
8. Economic Reforms in India - Economic reforms since 1991;            Liberalisation, Privatisation, Globalisation and Disinvestment
9. Money and Banking -
  • Monetary/ Fiscal policy - Role and functions of Reserve Bank of India; functions of commercial Banks/ RRB/ Payment Banks
  • Budget and Fiscal deficits and Balance of payments
  • Fiscal Responsibility and Budget Management Act, 2003
10. Monetary/ Fiscal policy - Role and functions of Reserve Bank        of India; functions of commercial Banks/ RRB/ Payment                  Banks Budget and Fiscal deficits and Balance of payments
      Fiscal Responsibility and Budget Management Act, 2003

SSC CGL टीयर - III परीक्षा का पूर्ण सिलेबस (SSC CGL Tier III Syllabus in Hindi) :-

SSC CGL टीयर - III परीक्षा एक वर्णनात्मक पेपर है जो पेन और पेपर मोड पर ऑफ़लाइन कराया जाता है। इस परीक्षा में, उम्मीदवारों की लैंग्वेज प्रोफिसीयेनसी, व्याकरण ज्ञान, शब्दावली का उपयोग और लेखन कौशल का अंग्रेजी / हिन्दी में परीक्षण किया जाता है। उम्मीदवारों को निबंध, संक्षिप्त आवेदन, पत्र आदि लिखने के लिए 60 मिनट का समय दिया जाता हैं।

SSC CGLTier 3 Exam Pattern

याद रखने योग्य बिंदु:-
  1. यह परीक्षा द्विभाषीय यानी हिंदी/इंग्लिश में होगी जैसाकि उम्मीदवार अपनी भाषा की पसंद को ऑनलाइन आवेदन के समय में भरते है.
  2. प्रश्न 10 + 2 स्तर के होंगे।
  3. यह परीक्षा क्वालीफाइंग प्रकृति की होगी। परीक्षा के इस चरण को उत्तीर्ण करने के लिए कम से कम 33% अंकों को अर्जित करना आवश्यक है और शेष कट-ऑफ मार्क्स पर निर्भर करता है।
  4. इस परीक्षा की अवधि उन उम्मीदवारों के लिए 80 मिनट है जो नेत्रहीन हैं या मस्तिष्क घात से पीड़ित है.

इस चरण की तैयारी करने का सबसे अच्छा तरीका है कि विभिन्न समाचार पत्रों से विभिन्न आर्टिकल्स को पढ़ें। इसके अलावा, आपको पत्र और आवेदन के पैटर्न से अच्छी तरह परिचित होना चाहिए।

SSC CGL टीयर – IV परीक्षा का पूर्ण सिलेबस 

(SSC CGL Tier IV Syllabus in Hindi) :-


SSC CGL टीयर - IV परीक्षा में कुछ कौशल परीक्षण है जिनकी आवश्यकता सरकारी पदों और दस्तावेज़ सत्यापन प्रक्रिया के लिए आवश्यक हैं:



DEST (डाटा एंट्री स्पीड टेस्ट):
  • कर सहायक (केन्द्रीय उत्पाद शुल्क और आयकर) के पद के लिए विशेष रूप से डाटा एंट्री की गति कंप्यूटर पर 8,000 की-इम्प्रैशन प्रति घंटे की होनी चाहिए।
  • DEST टेस्ट में आपको एक पैराग्राफ दिया जायेगा जिसे आपको 15 मिनट की अवधि के अन्दर कम-से-कम 2000 की-इम्प्रेशंस के साथ टाइप करना होगा।
  • यह परीक्षण क्वालीफाइंग प्रकृति का होता है और इसका उपयोग उम्मीदवार की टाइपिंग की गति की जांच करने के लिए किया जाता है।
  • DEST के आयोजन में आयोग द्वारा निम्नलिखित श्रेणियों को छूट दी गयी है।
  1. अस्थि विकलांग (OH) उम्मीदवारों जिन्होंने सी०बी०डी०टी० में टैक्स असिस्टेंट के पद के लिए आवेदन किया है को इस टेस्ट में उपस्थित होने की कोई आवश्यकता नहीं है। जबकि CBEC में टैक्स असिस्टेंट के पद के लिए चयनित उम्मीदवारों को इस टेस्ट में कोई छूट नहीं मिलेगी।
  2. हियरिंग विकलांग (HH) और विसुअल्ली विकलांग (VH) उम्मीदवार इस टेस्ट से छूट के लिए पात्र नहीं हैं। VH उम्मीदवारों को DEST में 5 मिनट का अतिरिक्त समय भी दिया जायेगा। केवल उन्हीं VH उम्मीदवारों को रीडर की सुविधा दी जाएगी जिन्होंने लिखित परीक्षा के लिए स्क्राइब का चयन किया होगा।
सी०पी०टी० (कम्प्यूटर प्रोफीसीयेनसी टेस्ट):
  • आयोग सी०पी०टी० का आयोजन तीन मॉड्यूल में करेगा -
  1. शब्द संसाधन,
  2. स्प्रेड शीट और
  3. पॉवरपॉइंट स्लाइड्स
  • यह परीक्षण निम्न पदों के लिए आयोजित किया जाएगा-
  1. केंद्रीय सचिवालय सेवा के सहायक अनुभाग अधिकारी (सी०एस०एस०), सहायक अनुभाग अधिकारी (विदेश मंत्रालय), खनन मंत्रालय में असिस्टेंट, कारपोरेट मामलों के मंत्रालय के तहत सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टीगेशन ऑफिस में सहायक के रूप में।
  • सी०पी०टी० भी क्वालीफाइंग प्रकृति का होगा।
  • सी०पी०टी०का आयोजन आयोग द्वारा किसी मकसद से किया जाता है और सी०पी०टी० से किसी प्रकार की छूट विकलांग (पीडब्ल्यूडी) या किसी भी अन्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए अनुमन्य नहीं है।
दस्तावेज़ सत्यापन:

अंतिम चयन के लिए परीक्षा का अंतिम चरण  दस्तावेज सत्यापन है। इसके तहत उम्मीदवारों को विभिन्न दस्तावेजों जैसे मैट्रिक प्रमाण पत्र, अन्य शैक्षिक योग्यता का प्रमाण-पत्र, जाति प्रमाण पत्र, प्रासंगिक दस्तावेज़ की कॉपी इत्यादि को प्रस्तुत करना होता है व दस्तावेज़ सत्यापन के समय उम्मीदवारों को सभी दस्तावेज की मूल प्रति को भी साथ लेकर जाना होगा।

ऊपर उल्लेखित SSC CGL 2018 परीक्षा के विस्तृत पाठ्यक्रम का अध्ययन करने के बाद, अगला चरण एक अध्ययन की योजना को बनाना और उस पर अमल करना है। उदाहरण के लिए, पिछले वर्ष के कुछ प्रश्न पत्र को हल करके आप अभ्यास शुरू कर सकते है और अपने मजबूत और कमजोर क्षेत्रों का विश्लेषण कर सकते है. नियमित अभ्यास से परीक्षा में सटीकता और उच्च स्कोर को प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

Post a Comment

0 Comments